Malala Yousafzai Biography in Hindi | Malala Biography in Hindi

मलाला युसुफ़ज़ई – लड़कियो के हक के लिए सर पे खाई गोली मलाला युसुफ़ज़ई 

आज के इस आर्टिकल में हमलोग  मलाला यूसुफजई  की जीवनी  (Biography of Malala Yousafzai in hindi )  के बारे में जानेंगे आपलोग नोबल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई का  नाम तो सुना ही होगा, आज मलाला  की जीवनी हिंदी में पढ़ेंगे 

Malala Yousafzai Story in Hindi | Malala Biography in Hindi | Malala Story in Hindi | Malala ki jivni in hindi | मलाला यूसुफजई बायोग्राफी

Malala Yousafzai Biography in Hindi,malala yousafzai story,malala images,malala divas, malala nobel prize speech, malala news, malala achievements,

मलाला यूसुफजई का परिचय संक्षेप में  (Malala Yousafzai Introduction in Short)

मलाला  का पूरा नाम (Full Name of Malala) :- मलाला युसुफ़ज़ई (Malala Yousafzai) है | 

मलाला यूसुफजई का जन्म दिनांक (Birth date of Malala Yousafzai) :- 12 जुलाई 1997 को  है |

मलाला यूसुफजई का जन्मस्थान (Birth palace of Malala Yousafzai) :- पाकिस्तान के मिंगोरा में हुआ है |

मलाला यूसुफजई के पिता का नाम (Father Name of Malala Yousafzai) :- जियाउद्दीन युसुफ़ज़ई है |

मलाला यूसुफजई के माँ का नाम (Mother Name of Malala Yousafzai)  :- टूर पकाई युसुफ़ज़ई है 

मलाला यूसुफजई के भाइयों का नाम (Brothers Name of Malala Yousafzai :- खुशहाल और अटल है |

मलाला यूसुफजई की उम्र (Malala Yousafzai Age) :-  23 वर्ष है | 

मलाला यूसुफजई का धर्म (Malala Yousafzai Religion) :-  मुस्लिम (पठान) है | 

मलाला यूसुफजई का पुरस्कार (Malala Yousafzai Awards) :- शांति का नोबेल पुरस्कार (2014), अंतर्राष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार (2013), पाकिस्तान का राष्ट्रीय शांति पुरस्कार

मलाला यूसुफजई का पेशा (Malala Yusufzai’s Profession ) :- महिला अधिकार कार्यकर्ता, शिक्षाविद

मलाला यूसुफजई का राष्ट्रीयता (Malala Yusufzai’s Nationality) :- पाकिस्तानी

Malala yousafzai Biography In Hindi | मलाला यूसुफजई की जीवनी 

मलाला यूसुफजई का बचपन (Childhood of Malala Yousafzai)

Malala Yousafzai Biography in Hindi,malala yousafzai story,malala images,malala divas, malala nobel prize speech, malala news, malala achievements,
मलाला का जन्म 12 जुलाई 1997 को पाकिस्तान के मिंगोरा शहर में एक परिवार में हुआ था। मलाला ने जिस गांव में जन्म लिया उस गांव में लड़की के जन्म पर जश्न नहीं मनाया जाता था | लेकिन इसके बावजूद मलना के पिता ने मलाला के जन्म पर जश्न मनाया। मलाला  2007 से पहले पाकिस्तान की स्वात घाटी की एक मासूम बच्ची जिसे सिर्फ अपनी पढ़ाई से मतलब था | जिस उम्र में बच्चे अपने माता-पिता से खिलौने की जिद करते है | उसी उम्र में मलाला के जिंदगी की संघर्ष की कहानी शुरू हुई, तभी वह 8वी में पढ़ रही थी | 2007 – 2009 तक तालिबान ने स्वात घाटी पर कब्जा कर लिया था | जिसने लड़कियों के स्कूल जाने पर प्रतिबंध लगा दिया।कार में म्‍यूजिक से लेकर सड़क पर खेलने तक पर पाबंदी लगा दी गई थी।लड़कियों को टीवी कार्यक्रम देखने की भी बंद कर दी थी | तालिबानियों के खौफ से लोगो ने अपने बच्चो को स्कूल भेजना बंद कर दिया, जिसमे से एक मलाला  भी शामिल थी |

मलाला  यूसुफजई का संघर्ष (Struggle of Malala Yousafzai)

तालिबानों ने मलाला और उसकी सहेलियों की  हस्ती -खेलती बचपन छीन लिया था | मलाला को  यह सब इतना दर्द दिया उसने  मात्र 11 साल की उम्र में मलाला  ने बीबीसी उर्दू के लिए ब्लॉग लिखा जिसमें  अपना  नाम ‘गुल मकई’ रखा | इस ब्लॉग के माधयम से मलाना ने अपने विचारों और स्वात घाटी के हालातों को दुनिया के सामने रखा। मलाला का ब्लॉग पहली बार 3 जनवरी 2009 को बीबीसी उर्दू ब्लॉग पर प्रकाशित हुआ। इस ब्लॉग में उसने स्वात में तालिबान द्वारा लड़कियो पर किये जा रहे अत्याचार के बारे में बताया | मलाला ने जब ब्लॉग और मीडिया में तालिबान की अत्याचार  के बारे में जब से लिखना शुरू किया तब से उसे अनेको बार धमकियां मिलीं। मलाला ने अपने ब्लॉग से क्षेत्र के लोगों को सिर्फ जागरुक ही नहीं बल्कि तालिबान के खिलाफ खड़ा भी किया। कुछ दिनों बाद दिसंबर में  पिता ने सबको  मलाला ही “गुल मकई” है
मलाला यूसुफजई पर हमला ( Attack on Malala Yousafzai)
2009 में तालिबान ने साफ कहा था की  एक भी लड़की स्‍कूल नहीं जाएगी। यदि कोई यह बात नहीं मानी तो मौत के लिए वह खुद जिम्‍मेदार होगी | जैसे ही तालिबानों  को पता चला की मलाला ही गुल मकई” है, जो इतने दिनों से तालिबानों के अत्याचार के बारे में सबको बता रही थी | तालिबान मलाला को मारने के लिए बौखला गया डॉक्‍टर बनने का सपना देख रही मलाला  तालिबानियों के हिट लिस्ट में आ गयी | 9 अक्टूबर 2012 के दिन तालिबानों ने बस पर कब्ज़ा कर लिया । जब मलाला स्कूल से घर लौट रही थी | आतंकवादी बस में नकाब लगाकर घुस गया और पूछा बताओ तुम में से मलाला कौन है वरना मैं सबको गोली मार दूंगा | सभी लड़की डर से मलाला तरप देखने लगी | मलाला की पहचान करके आंतकवादी ने 3  गोली चलायी, जो मलाला के सर और गले में लगी। इस हमले में और 2 लड़कियाँ भी घायल हो गयी। गंभीर रूप  घायल मलाला को इलाज  ब्रिटेन जाना पड़ा | 2 दिन तक कोमा  रहने के बाद होश  में आयी | 3 जनवरी 2013 तक  लम्बी इलाज के बाद मलाला स्वस्थ हो गयी | मलाला के साहस को पूरी दुनिया से सराहना मिलने लगी। New York Times ने मलाला पर एक डक्यूमेंट्री भी बनाई | 
मलाला  यूसुफजई को अनेको पुरस्कार से सम्मानित किया गया (Malana Yusufzai Awarded with Multiple Awards)

 

मलाला यूसुफजई को पाकिस्तान का राष्ट्रीय युवा शांति पुरस्कार  – 2011 
मलाला यूसुफजई को अंतराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार  के लिए नामांकन  – 2011 
मलाला यूसुफजई को व‌र्ल्ड पीस एंड प्रॉस्पेरिटी फाउंडेशन के वीरता पुरस्कार – 2012 
मलाला यूसुफजई को फ्रांस के सिमोन डी बेवॉर पुरस्कार – 2013 
मलाला यूसुफजई को अंतराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार – 2013 
मलाला यूसुफजई को मैक्सिको समानता पुरस्कार – 2013 
मलाला यूसुफजई को साख़ारफ़ (सखारोव) पुरस्कार – 2013 
मलाला यूसुफजई को संयुक्त राष्ट्र का मानवाधिकार सम्मान (ह्यूमन राइट अवॉर्ड) – 2013 
मलाला यूसुफजई को नोबेल पुरस्कार –  2014 
मलाला यूसुफजई से संबंधित मुख्य तथ्य :- 

*  मलाला यूसफजई ने 12  जुलाई  2013  को अपने 16वे जन्मदिन पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के विशेष सत्र में लड़कियों की शिक्षा पर जबरदस्त भाषण दिया | भाषण सुनते ही  यूएन मुख्यालय में मौजूद सभी सदस्यों ने तालियां बजाकर मलाला की प्रशंसा किया । इसी  दिन 12 जुलाई को ही संयुक्त राष्ट्र ने मलाला दिवस (मलाला डे)  घोषित कर दिया | बाद में इसे बदल कर 10 नवंबर को मलाला दिवस (Malala Day) घोषित किया 

वह 17 साल की उम्र में  नोबेल शांति पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की प्राप्तकर्ता बन गईं
 
*  संयुक्त राष्ट्र  ने 2019 में मलाला को दशक में “दुनिया में सबसे प्रसिद्ध किशोरी” घोषित किया 
 
मलाला यूसफजई  पर बनी डॉक्यूमेंट्री, ” He Named Me Malala” को  2015 में ऑस्कर के लिए चुना गया 

मलाला यूसुफजई की किताब (Malala book list)

1st Book  (08 October 2013) :-  I Am Malala: How One Girl Stood Up for Education and Changed the World (Authors- Malala Yousafzai and Patricia McCormick)
 
2nd Book (08 October 2013) :-  I Am Malala: The Girl Who Stood Up for Education and Was Shot by the Taliban (Authors- Christina Lamb and Malala Yousafzai)
 
3rd Book (05 August 2014) :-  Malala: The Girl Who Stood Up for Education and Changed the World (Authors- Malala Yousafzai and Patricia McCormick)
4th Book(04 February 2016) :-  I Am Malala Abridged Quick Reads Edition: The Girl Who Stood Up for Education and was Shot by the Taliban (Authors- Christina Lamb and Malala Yousafzai)
 
5th Book(17 October 2017) :- Malala’s Magic Pencil (Authors- Malala Yousafzai)
 
6th Book (09 October 2018) :- Malala: My Story of Standing Up for Girls’ Rights (Authors- Malala Yousafzai)
 
7th Book (08 January 2019) :-  We Are Displaced (Authors- Malala Yousafzai)
 
8th Book (June 2019) :- ATAR Notes Text Guide: I Am Malala (Authors- Jessica You and Malala Yousafzai)
 
 

मलाला यूसुफजई पर बनी फिल्म (Malala Movie list )

1.  Malala: A Girl From Paradise
 
2.  He Named Me Malala
 

मलाला यूसुफजई की पढ़ाई (Malala Education)

मलाला 2013 से 2017  तक इंग्लैंड के Edgbaston High School में पढ़ी |  इसके बाद University of Oxford से Philosophy, Politics and Economics (PPE) विषय से 2020 में Graduated हुई

मलाला यूसुफजई के अनमोल विचार (Malala Best Quotes)

   “एक किताब, एक कलम, एक बच्चा और एक शिक्षक दुनिया बदल सकते है”

       “मैं उस लड़की के रूप में याद किया जाना नहीं चाहती जिसे गोली मार दी गयी थी। मैं उस लड़की के रूप में याद किया जाना चाहती हूँ जिसने खड़े हो कर सामना किया”

       “अगर आप किसी व्यक्ति को मारते हैं तो ये दिखता है कि आप उससे डरे हुए हैं”

 

       “बहुत सारी समस्याएं हैं, लेकिन मुझे लगता है इन सभी समस्याओं का समाधान है; वो बस एक है, और वो शिक्षा है”

       “शिक्षा न ईस्टर्न है न वेस्टर्न शिक्षा, शिक्षा है और ये हर एक मानव का अधिकार है”
 

       “मेरी कहानी दुनिया भर के हज़ारों बच्चों की कहानी है। मुझे आशा है ये औरों को अपने अधिकारों के लिए खड़े होने की प्रेरणा देगी”

 

       “इस्लाम हमसे कहता है हर एक लड़की और लड़का शिक्षित किया जाना चाहिए। मुझे नहीं पता तालिबान ये क्यों भूल गया है”

       “मैं उस तालिबानी से भी नफरत नहीं करती जिसने मुझे गोली मारी। अगर मेरे हाथ में गन भी हो और वो मेरे सामने खड़ा हो जाए, मैं उसे नहीं मरूंगी”
“जब पूरी दुनिया खामोश हो तब एक आवाज़ भी ताक़तवर बन जाती है”
 
“अपनी बेटियों का सम्मान करिए। वे सम्माननीय हैं”
 
“मैं अपना चेहरा नहीं ढकती क्योंकि मैं अपनी पहचान दिखाना चाहती हूँ”
 
दोस्तों आपलोग को मलाला यूसुफजई बायोग्राफी कैसा लगा अगर अच्छा  लगा तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे :-
 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *