मंदबुद्धि बालक का अर्थ एवं परिभाषा को परिभाषित करें

मंदबुद्धि बालक का अर्थ एवं परिभाषा को परिभाषित करें

मंदबुद्धि बालक का अर्थ एवं परिभाषा को परिभाषित करें मंद बुद्धि बालक का अर्थ:- मंदबुद्धि बालक का तात्पर्य ऐसे बालक से है जो मानसिक रूप से कमजोर होते हैं जिनके मानसिक और बुद्धि इतने कम विकसित है कि उनमें मानसिक क्षमता कम होती है ऐसे बालकों को मंदबुद्धि बालक ,धीमी गति से सीखने वाले बालक…

ब्लैक होल क्या है (Black hole in hindi)

ब्लैक होल क्या है (Black hole in hindi)

ब्रह्मांड में कुछ ऐसे खगोलीय पिंड है | इनका गुरुत्वाकर्षण बल इतना प्रबल होता है वह अपने पास आने वाले सभी खगोलीय पिंडों को निगल लेता है यहां तक कि प्रकाश भी उनके गुरुत्वाकर्षण बल से नहीं निकल पाता है जिसके कारण यह दिखाई नहीं देता इसीलिए इस खगोलीय पिंडों को ब्लैक होल कहां जाता…

बाल्यावस्था के विकास में परिवार ,विद्यालय, शिक्षक एवं साथी संगी की भूमिका

बालक के विकास में विद्यालय भूमिका| बालक के विकास में दोस्त की भूमिका| बालक के विकास शिक्षक की भूमिका| बच्चों के विकास में परिवार की भूमिका| बालक के सामाजिक विकास में विद्यालय की भूमिका|बालक के विकास में घर का योगदान | बच्चो के विकास में स्कूल की भूमिका | बच्चो के विकास में परिवार की भूमिका |बच्चों के विकास में विद्यालय…

भारत के प्रमुख भौगोलिक उपनाम(Geographical nicknames)

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमलोग भारत के प्रमुख राज्यों और शहरों के भौगोलिक उपनाम {Geographical Nickname of India’s major states and cities} के बारे में जानेंगे  भारत के प्रमुख शहरों के भौगोलिक उपनाम,bharat ke pramukh bhogolik upnam in hindi,bharat ke pramukh bhogolik naam,bharat ke pramukh bhogolik upnam,     भारत के प्रमुख स्थानों के भौगोलिक उपनाम,bharat…

Regulating act kya hai in hindi(रेगुलेटिंग एक्ट क्या हैं)

Regulating Act 1773, 1773 regulating act, रेगुलेटिंग एक्ट क्या हैं, नियामक अधिनियम क्या होता है, आदि | अगर आप इन सभी सवालों का जवाब जानना चाहते हैं तो आज के इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। इस पोस्ट में आप Regulating Act 1773 से जुड़ी यह सभी जानकारी के बारे में जान सकते हैं।   नियामक अधिनियम 1773 क्या हैं |…

B.Ed 1st year C-2 के कुछ वस्तुनिष्ठ प्रश्न उत्तर Part-3

“भारत में  सामान्य भावना यह है कि उच्च शिक्षा की स्थिति और  असंतोषजनक एवं वह भयप्रद भी है :-  कोठारी कमीशन “ विश्वविद्यालय की उपाधियाँ, सरकारी नौकरियों के लिए पासपोर्ट थी | शिक्षा- विद्यार्थियों को नौकरी के लिए, न  की जीवन के लिए तैयार करने के सीमित उद्देश्य से प्रदान की जाती थी |”  :-  …